बीएसएनएल लाया 20 जीबी प्रतिदिन ब्रॉडबैंड प्लान, इंटेरनेट टेलीफोनी सेवा “विंग्स” की शुरुआत - THE7 :: Find Any Thing

RECENT

FOR YOUR ADVERTISEMENT HERE CALL @ 9219562228

10.7.18

बीएसएनएल लाया 20 जीबी प्रतिदिन ब्रॉडबैंड प्लान, इंटेरनेट टेलीफोनी सेवा “विंग्स” की शुरुआत

ऐसे दौर में जहाँ निजी दूरसंचार कंपनियां भारत में इंटरनेट टेलीफोनी का नेतृत्व करने के लिए एक दूसरे को कड़ी प्रतिस्पर्धा दे रही हैं, वहीं सरकार के स्वामित्व वाले बीएसएनएल (BSNL) ने अपने इंटरनेट कॉलिंग उत्पाद के सॉफ्ट लॉन्च के साथ बाजार में एक मजबूत पकड़ बनाने की ओर कदम बढ़ा दिए हैं। ऐसे समय में जब वोडाफोन (Vodafone), एयरटेल (Airtel) और जिओ (Jio) जैसे निजी खिलाड़ी पहले से ही इस सेवा का परीक्षण कर रहे हैं, वहीँ देश के सबसे पुराने टेलीकॉम ऑपरेटर द्वारा उठाया गया यह एक महत्वपूर्ण कदम है। यह कदम बीएसएनएल को भी मदद करेगा जो 2020 तक पूरे भारत में 5G रोलआउट की योजना बना रहा है।

कंपनी ने भारत में अपनी पहली इंटरनेट टेलीफोनी सेवा, विंग्स (Wings) के सॉफ्ट लॉन्च की घोषणा की है। यह सेवा उपयोगकर्ताओं को मोबाइल उपकरण पर लैंडलाइन लगाने में सक्षम बनाती है (जिससे वह मोबाइल बन जाए), और इसके बाद वो मोबाइल हैंडसेट की सभी सुविधा जैसे पता पुस्तिका, कॉन्फ़्रेंस कॉल इत्यादि का उपयोग कर सकते हैं।

विंग्स की यह पेशकश पूरी तरफ से 1 अगस्त से शुरू की जाएगी। ग्राहकों को ब्रॉडबैंड, वाई-फाई, 4G, या 3G इंटरनेट का उपयोग करके कॉल करने और प्राप्त करने के लिए 1,099 रुपये का एक बार पंजीकरण शुल्क देना होगा। वीडियो कॉलिंग केवल विंग्स-टू-विंग्स कॉल के लिए समर्थित है।

कॉल करने के लिए, ग्राहकों को एप खोलना होगा और एप के माध्यम से अपनी फोन एड्रेस बुक से नंबर डायल करना होगा। यह एप इंटरनेट वाले स्मार्ट डिवाइस (जैसे लैपटॉप/स्मार्ट मोबाइल हैंडसेट/टैबलेट) पर भी कॉन्फ़िगर करने योग्य होगी।

इसके अलावा, बीएसएनएल ने प्रति दिन 20 जीबी डेटा ऑफर के साथ लैंडलाइन ब्रॉडबैंड की घोषणा भी की है। उसके द्वारा हर दिन 20 एमबीपीएस पर 20 जीबी डेटा पेश किया जाएगा। ग्राहकों को किसी भी नेटवर्क पर असीमित वॉइस कॉल करने की अनुमति भी दी जाएगी।

ट्विटर पर इस योजना की घोषणा करते समय बीएसएनएल बोर्ड के निदेशक (सीएफए) एनके मेहता ने कहा कि 491 रुपये की योजना अब उनके ग्राहक सेवा केंद्रों, फ्रेंचाइजी और खुदरा विक्रेताओं के पास उपलब्ध है।

यह घोषणा, भारत में इंटरनेट टेलीफोनी की शुरुआत करने हेतु दूरसंचार विभाग (डीओटी) को ट्राई द्वारा दी गयी सिफारिशों के बाद हुई है।

गौरतलब है कि, ट्राई द्वारा तैयार नियम केवल अधिकृत लाइसेंस प्राप्त धारकों को पूर्ण इंटरनेट टेलीफोनी प्रदान करने की अनुमति देता है (पर व्हाट्सएप और गूगल डुओ जैसे शीर्ष खिलाड़ियों को नहीं, जो केवल ऐप-टू-एप कॉलिंग की अनुमति देते हैं)।

वर्तमान में इंटरनेट टेलीफोनी, केवल सिम कार्ड वाले उपकरणों और कॉमन एप्स के बीच ही संभव है। उपयोगकर्ता एप टू एप कॉल कर सकते हैं लेकिन एप से लैंडलाइन या एप से मोबाइल (दूरसंचार ऑपरेटरों के रूप में) कॉल नहीं कर सकते हैं।

चूंकि यह सेवा ओटीटी खिलाड़ियों को कड़ी टक्कर देगी, इसलिए वे क्रॉस मोबाइल टेलीफोनी विकल्प प्रदान करने के लिए सरकार के साथ एक दूसरे से जुड़े समझौते की तलाश कर सकते हैं।

No comments:

Post a Comment

FOR YOUR ADVERTISEMENT HERE CALL @ 9219562228