उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब पीने से 72 लोग्गो की मौत, मरने वाले के परिवार को दो लाख का मुआवजा - Find Any Thing

RECENT

Sunday, February 10, 2019

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब पीने से 72 लोग्गो की मौत, मरने वाले के परिवार को दो लाख का मुआवजा

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब पीने से 72 लोग्गो की मौत, मरने वाले के परिवार को दो लाख का मुआवजा.

(72 laborers die due to drinking poisonous liquor in Uttar Pradesh and Uttarakhand, compensation of Rs two lakh to family of dying)
उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या 72 पहुंच गई है. इस मुद्दे पर भी विपक्ष की ओर से सरकार को कटघरे में खड़ा करने की कोई कोशिश नहीं दिखाई दे रही है. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब पीने से मरने वालों का आंकड़ा 44 पहुंच गया है. मरने वालों में 36 लोग सहारनपुर के हैं जबकि 8 लोग कुशीनगर के हैं. घटना के सामने आने के बाद पुलिस ने इस मालमे में अभी तक 30 से ज्यादा लोगों की गिरफ्तारी की है. कई पुलिस अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है. इसके अलावा दोनों जिलों के आबकारी अधिकारियों को 15 दिन तक पुलिस के साथ अवैध शराब के विरुद्ध संयुक्त ऑपरेशन चलाने का निर्देश भी दिया है. उत्तर प्रदेश के अलावा उत्तराखंड में भी शुक्रवार को 28 लोगों की मौत की खबर आई थी जहां 8 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है. 
उत्तराखंड सरकार ने मामले की मजिस्ट्रेट से जांच के आदेश दे दिए हैं. दोनों राज्यों को मिलाकर मरने वालों की संख्या 72 हो गई है.
सवाल इस बात का है कि इस ताबड़तोड़ कार्रवाई से पहले क्या सरकारें इन 72 लोगों की मौत का इंतजार कर रही थी. आपको याद होगा जब उत्तर प्रदेश में जब अखिलेश यादव की अगुवाई में समाजवादी पार्टी की सरकार थी तो उन्नाव और लखनऊ के मलीहाबाद में भी जहरीली शराब से करीब 30 लोगों की मौत हो गई थी. लेकिन उस समय जिस तरह से तीखा विरोध हुआ और अखिलेश सरकार को कटघरे में खड़ा किया था. विपक्ष के नेता राज्य सरकार पर सवाल उठाने के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति करता नजर आ रहा है.
उत्तराखंड सरकार द्वारा हादसे में मारे गये लोगों के परिवार के लिए दो-दो लाख रूपये मुआवजे की घोषणा का उल्लेख करते हुए रावत ने कहा कि यह राशि कम से कम पांच लाख रूपये होनी चाहिए। 
दूसरी ओर से उत्तर प्रदेश में एक बड़ी ताकत उभरने की कोशिश कर रही कांग्रेस की ओर से भी अभी इस मुद्दे पर शायद ही योगी सरकार का तीखा विरोध किया गया हो. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर की ओर से एक बयान जरूर मीडिया में दिया गया है. वहीं उत्तराखंड की घटना के लिए भी पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मीडिया में बयान दिया. उन्होंने कहा कि जहरीली शराब से हुई मौतों को सत्तारूढ़ भाजपा सरकार पर कड़ा प्रहार किया है और कहा कि प्रदेश के आबकारी विभाग की ‘लापरवाही' के चलते यह घटना हुई.

No comments:

Post a Comment