15.11.18

कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी सैमसंग ऐसे स्मार्ट टीवी पर काम कर रही है जिससे सोचने भर से बदल जाएगा चैनल

टेलीविजन वर्ल्ड में एक इनोवेशन होने जा रहा है। कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी सैमसंग एक ऐसे स्मार्ट टीवी पर काम कर रही है, जिसे इंसान अपने दिमाग से कंट्रोल कर सकेगा। 


सैमसंग ने इसके लिए स्विट्जरलैंड के इकोल पॉलिटेक्निक फेडरल डी-लॉसैन के सेंटर ऑफ न्यूरोप्रोस्थेटिक्स के साथ हाथ मिलाया है और इसे ‘प्रोजेक्ट प्वॉइंट्स’ नाम दिया है।सोचने से ही बदल जाएंगे टीवी चैनल
सैमसंग इस प्रोजेक्ट पर पिछले तीन महीनों से काम कर रहा है और अगले साल स्विट्जरलैंड में इसका ट्रायल शुरू होने की उम्मीद है। सैमसंग की इस टेक्नोलॉजी की मदद से सिर्फ सोचकर ही टीवी पर चैनल को बदला जा सकेगा। इतना ही नहीं, सिर्फ सोचने भर से टीवी का वॉल्यूम एडजस्ट हो सकेगा। सैमसंग ने डेवलपर कॉन्फ्रेंस में इसका प्रोटोटाइप भी पेश किया था।
ऐसे काम करेगा टीवी
सैमसंग की इस टेक्नोलॉजी में ब्रेन कम्प्यूटर इंटरफेस का इस्तेमाल किया जाएगा जो व्यूअर को टीवी सेट से जोड़ेगा। इस बीसीआई में 64 सेंसर के अलावा एक आई-मोशन ट्रैकर लगा होगा। यह एक तरह का हेडसेट है। यही इंसानी दिमाग से निकलने वाली तरंगों के जरिए उनके सुझावों को समझेगा और फिर आंखों के मूवमेंट से इन सुझावों की पुष्टि करेगा।मानव मस्तिष्क को समझ रहे हैं वैज्ञानिकइस टेक्नोलॉजी पर काम करने के लिए वैज्ञानिक इंसानी दिमाग से निकलने वाली तरंगों को भी समझने की कोशिश कर रहे हैं। वैज्ञानिक यह पता लगा रहे हैं कि टीवी देखते समय इंसान का दिमाग क्या सोचता है और किस तरह व्यवहार करता है। सैमसंग और EPFL एक ऐसी टेक्नोलॉजी पर भी काम कर रहे हैं, जिसकी मदद से यूजर अपने दिमाग से निकलने वाली तरंगों की मदद से टीवी से बात कर सकते हैं। इस टेक्नोलॉजी से सबसे ज्यादा फायदा दिव्यांगों को होगा।

चार साल में 5.5 करोड़ बढ़ी तेलंगाना CM चंद्रशेखर राव की संपत्ति

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चन्द्रशेखर राव की संपत्ति पिछले चार साल में साढ़े पांच करोड़ रुपए का इजाफा हुआ है| 

लेकिन उनके पास खुद की कोई कार नहीं है. उन्होंने इस दौरान 16 एकड़ कृषि भूमि भी खरीदी है| यह जानकारी बुधवार को उनकी ओर से दाखिल किए गए हलफनामे में सामने निकलकर आई है| केसीआर तेलंगाना राष्ट्र समिति पार्टी के अध्यक्ष हैं, उनकी पार्टी का चुनाव चिन्ह भी कार ही है|
राव की कुल चल और अचल संपत्ति की कीमत अभी 22.61 करोड़ रुपए है, जबकि साल 2014 में उन्होंने अपनी संपत्ति 15.95 करोड़ रुपए की बताई थी| इस दौरान राव की देनदारी साल 2014 के 7.87 करोड़ रुपए से बढ़कर साल 2018 में 8.89 करोड़ रुपए हो गई है| इसके अलावा राव ने साल 2014 के आम चुनाव के दौरान हलफनामे में बताया था कि उनके पास 37.70 एकड़ कृषि भूमि है जो 2018 में बढ़कर 54.24 एकड़ हो गई है| राव का कहना है कि उनके खिलाफ अलग तेलंगाना राज्य के आंदोलन से जुड़े 64 आपराधिक मामले चल रहे हैं. उन सभी की सुनवाई अलग-अलग स्तर पर चल रही है.
चंद्रशेखर राव ने बुधवार को गजवेल विधानसभा क्षेत्र से अपना नामांकन दाखिल किया था| राव नामांकन पत्र दाखिल करने से पहले सिड्डीपेट जिले के कोनाईपल्ली गांव में भगवान बालाजी के मंदिर गए और प्रार्थना की| कांग्रेस ने राव के खिलाफ वांटेरु प्रताप रेड्डी को चुनाव मैदान में उतारा है. रेड्डी ने 2014 में भी उनके खिलाफ तेलुगु देशम पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ा था लेकिन वह हार गए थे. बाद में वह कांग्रेस में शामिल हो गए|
नामांकन पत्र दाखिल करने के दौरान तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) प्रमुख के साथ उनके भतीजे और कार्यवाहक सिंचाई मंत्री टी हरीश राव भी थे| राज्य में 7 दिसंबर को मतदान होगा और मतगणना 11 दिसंबर को होगी|


बच्चे को दूध पिला रही मां की गोद से छीनकर भागा बंदर,पड़ोसी की छत पर मार डाला

उत्तर प्रदेश के आगरा में 12 दिन के एक बच्चे को उसकी मां की गोद से छीनकर बंदर ने मार डाला. बच्चे का शव पड़ोस के एक घर की छत पर खून में लथपथ मिला. उसके शरीर पर काटने और कुचलने के निशान थे. आगरा के कछेरा इलाके में रहने वाला यह परिवार घटना के बाद शोक में डूब गया. परिवार के मुताबिक सन्नी की मां सोमवार शाम उसे दूध पिला रही थी, तभी एक बंदर आया और उसे छीनकर भाग गया. सन्नी के परिवारवालों ने बंदर का पीछा किया, लेकिन वे उसे पकड़ नहीं पाए. 
बाद में परिवारवालों को पड़ोसी की छत पर खून में सना हुआ और कई जगहों से कटा हुआ सन्नी का शव मिला. इसके बाद बच्चे को अस्पताल ले जाया गया, जहां पर उसे मृत घोषित कर दिया गया. लेकिन परिवारवालों इस पर विश्वास नहीं कर पा रहे थे, तो उसे दूसरे अस्पताल ले जाया गया. लेकिन उन्हें वहां भी निराशा हाथ लगी. परिवार अपना बच्चा खो चुका था |
पर्यावरणविद श्रवण कुमार का कहना है कि बंदरों में गुस्से की प्रवृति इसलिए ज्यादा बढ़ रही है, क्योंकि उनके प्राकृतिक ठिकाने खत्म हो रहे हैं और हरियाली दिनों दिन घट रही है. स्थानीय लोगों का कहना है कि हर दिन बंदर लोगों पर हमले कर रहे हैं और उनसे छीना झपटी करके भाग रहे हैं |
विजय नगर कॉलोनी में रहने वाली सीमा गुप्ता का कहना है कि 'लोग अपने घर की छत पर जाने की हिम्मत नहीं पाते. कईयों ने अपने घरों की छत को लोहे की छड़ों से बंद कर रखा है. आप घर का दरवाजा खुला नहीं छोड़ सकते और न ही धूप में बैठ सकत |

मोहम्मद शमी ऑस्ट्रेलिया रवाना होने से पहले रणजी में प्रेक्टिस कर जाएंगे ऑस्ट्रेलिया

इंग्लैंड के खिलाफ भले ही टीम इंडिया ने टेस्ट सीरीज़ गंवा दी हो लेकिन फिर भी गेंदबाज़ों ने शानदार गेंदबाज़ी की और ये बता दिया कि अब भारत विदेशों में अपनी गेंदबाज़ी के नाम से जाना जाएगा.

इंग्लैंड दौरे पर भारतीय गेंदबाज़ों का प्रदर्शन इतना शानदार रहा कि अब ऑस्ट्रेलिया दौरे से पहले ऑस्ट्रेलियाई टीम की चिंताएं बढ़ी हुई हैं जबकि भारतीय टीम आत्मविश्वास से भरी हुई है.
इंग्लैंड में जिन गेंदबाज़ों ने बेमिसाल प्रदर्शन किया उनमें से एक रहे मोहम्मद शमी. शमी ने ना सिर्फ 5 टेस्ट मैचों की सीरीज़ में 16 विकेट चटकाए. बल्कि इंग्लैंड को कई मौकों पर मुश्किल में फंसाकर रखा.
शमी ऑस्ट्रेलिया रवाना होने से पहले यहीं रणजी ट्रॉफी में बंगाल के लिए खेलकर ऑस्ट्रेलिया रवाना होंगे. शमी बंगाल की तरफ से केरल के खिलाफ 20 से 23 नवंबर के बीच रणजी ट्राफी मैच में खेल सकते हैं.
आस्ट्रेलिया दौरे के लिये टेस्ट टीम में चुने गये शमी ईडन गार्डन्स में तीसरे दौर के इस रणजी मैच के बाद आस्ट्रेलिया रवाना हो जाएंगे.
बंगाल क्रिकेट संघ (कैब) के अध्यक्ष सौरव गांगुली ने यहां कहा, ‘‘शमी ने खेलने में दिलचस्पी दिखायी है. यह बंगाल की टीम के लिये अच्छी बात है.’’
वेस्टइंडीज के खिलाफ घरेलू श्रृंखला खेलने के बाद लौटे शमी सोमवार को बंगाल रणजी टीम के अपने साथियों से मिलने के लिये पहुंचे. बंगाल यहां मध्य प्रदेश के खिलाफ रणजी मैच खेल रहा है.

जानिए आंवला खाने के फायदे, हेल्थ और ब्यूटी रहेगी बरक़रार

विटामिन-सी से भरपूर आंवला, हर मौसम में लाभदायक होता है। यह आंखों, बालों और त्वचा के लिए तो फायदेमंद है ही, साथ ही इसके और भी कई फायदे हैं, जो आपके शरीर को स्वस्थ बनाए रखने में मदद करते हैं। आमतौर पर आंवले का प्रयोग अचार, मुरब्बा या चटनी के रूप में किया जाता है,लेकिन इसका अलग-अलग तरह से सेवन आपके लिए बेहद उपयोगी है।
डायबिटीज के मरीजों के लिए आंवला बहुत काम की चीज है। पीड़ि‍त व्यक्ति अगर आंवले के रस का प्रतिदिन शहद के साथ सेवन करें तो बीमारी से राहत मिलती है।
चेहरे के दाग-धब्बे हटाकर उसे खूबसूरत बनाने के लिए भी आंवला आपके लिए उपयोगी होता है। इसका पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से त्वचा साफ, चमकदार होती है और झुर्रियां भी कम हो जाती हैं।
एसिडिटी की समस्या होने पर आंवला बेहद फायदेमंद होता है। आंवला पाउडर, चीनी के साथ मिलाकर खाने या पानी में डालकर पीने से एसिडिटी से राहत मिलती है। इसके अलावा आंवले का जूस पीने से पेट की सारी समस्याओं से निजात मि‍लती है।
3 पथरी की समस्या में भी आंवला कारगर उपाय साबित होता है। पथरी होने पर 40 दिन तक आंवले को सुखाकर उसका पाउडर बना लें, और उस पाउडर को प्रतिदिन मूली के रस में मिलाकर खाएं। इस प्रयोग से कुछ ही दिनों में पथरी गल जाएगी।
4 रक्त में हीमोग्लोबिन की कमी होने पर, प्रतिदिन आंवले के रख का सेवन करना काफी लाभप्रद होता है। यह शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण में सहायक होता है और खून की कमी नहीं होने देता।
5 आंखों के लिए आंवला अमृत समान है, यह आंखों की रोशनी को बढ़ाने में सहायक होता है। इसके लिए रोजाना एक चम्मच आंवला के पाउडर को शहद के साथ लेने से लाभ मिलता है और मोतियाबिंद की समस्या भी खत्म हो जाती है।
6 बुखार से छुटकारा पाने के लिए आंवले के रस में छौंक लगाकर इसका सेवन करना चाहिए, इसके अलावा दांतों में दर्द और कैविटी होने पर आंवले के रस में थोड़ा सा कपूर मिला कर मसूड़ों पर लगाने से आराम मिलता है।
7 शरीर में गर्मी बढ़ जाने पर आंवल सबसे बेहतर उपाय है। आंवले के रस का सेवन या आंवले को किसी भी रूप में खाने पर यह ठंडक प्रदान करता है। हिचकी तथा उल्टी होने की पर आंवले के रस को मिश्री के साथ दिन में दो-तीन बार सेवन करने से काफी राहत मिलेगी।
8 याददाश्त बढ़ाने में आंवला काफी फायदेमंद होता है। इसके लिए सुबह के समय आंवला के मुरब्बा गाय के दूध के साथ लेने से लाभ होता है |

कांग्रेस-जेडीएस सरकार कर्नाटक में 125 फीट ऊंची मां कावेरी की मूर्ति बनवाएगी, नहीं किया जाएगा सरकारी धन का इस्तेमाल

गुजरात में नर्मदा नदी में सरदार पटेल की प्रतिमा के बाद अब इसी तर्ज पर कर्नाटक की कांग्रेस-जेडीएससरकार ने मूर्ति बनाने की योजना बनाई है

कांग्रेस-जेडीएस की सरकार ने मांड्या जिले के कृष्णा राजा सागर जलाशय में 125 फीट की मां कावेरी की मूर्ति बनाने पर विचार शुरू हो गया है.
कुमारस्वामी सरकार के वरिष्ठ मंत्री और कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने आज कहा कि ये एक मूर्ति नहीं बल्कि टावर की तरह होगा. इसके लिए सरकार के पास जमीन पहले से उपलब्ध है. अब हम इस प्रस्ताव के लिए निवेशक ढूंढ़ रहे हैं जो इस योजना में निवेश करें. इस प्रस्ताव में सरकारी धन का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. इसे एक पर्यटक स्थल की तरह से बनाया जाएगा.
इससे पहले कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि मां कावेरी नदी का नाम है और यह राजनीतिक मसला नहीं है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कावेरी के मुद्दे पर राजनीति कर रहे हैं. आपको बता दें कि कावेरी नदी के पानी को लेकर तमिलनाडु और कर्नाटक में लंबे समय से विवाद रहा है. इस मामले में एक पक्ष केंद्र सरकार भी है.
गुजरात में 182 मीटर ऊंची सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा 'स्टेचू ऑफ यूनिटी' का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन किया था. जिसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि वह अयोध्या में सरयू नदी के किनारे 152 मीटर ऊंची राम की मूर्ति लगवाएंगे.

पंजाब में टैक्सी हाईजैक, पंजाब से दिल्ली तक अलर्ट जारी

कल सुबह जम्मू से चार हथियार बंद एक इनोवा कार छीनकर पंजाब की ओर भागे। इन चारों के आंतकवादी होने की आशंका पर पंजाब भर में अलर्ट जारी किया गया है। 


जिला फ़िरोज़पुर के बॉर्डर एरिया में छिपने के अनुमान लगाया जा रहा है, इसलिए सभी सुरक्षा एजेंसियों द्वारा फ़िरोज़पुर का सारा बॉर्डर एरिया सील कर दिया गया है और चौकसी बढ़ा दी है।
आतंकियों ने जम्मू से एक टैक्सी को किराये पर लिया था, जिसे पंजाब के माधोपुर इलाके के पास उन्होंने बंदूक की नोक पर ड्राइवर से छीन लिया। संदिग्ध आतंकियों टोयोटा इनोवा टैक्सी को पंजाब के पठानकोट तक के लिए बुक किया था। जानकारी मिलने के बाद से दिल्ली पुलिस भी हाई अलर्ट पर है और पूरी सतर्कता बरती जा रही है। जम्मू-कश्मीर पुलिस भी किसी घटना की आशंका के चलते अलर्ट पर है। पंजाब पुलिस सीमांत इलाकों में बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चला रही है।
टैक्सी के हाईजैक होने से 2016 की तरह पठानकोट एयरबेस जैसे हमले की आशंका पैदा हो गई है। पुलिस ने कहा कि सिल्वर रंग की टोयोटा इनोवा टैक्सी को शुरू में जम्मू से चार लोगों ने किराए पर लिया। उन्होंने इसे पठानकोट के लिए बुक किया था। माधोपुर के निकट उन्होंने चालक को बंदूक दिखाकर उसे टैक्सी से बाहर फेंक दिया और वाहन लेकर फरार हो गए।
टैक्सी चालक ने बाद में राहगीरों की मदद से पुलिस को सूचना दी। पंजाब पुलिस और जम्मू एवं कश्मीर पुलिस ने माधोपुर इलाके व आसपास के क्षेत्रों में तलाशी अभियान शुरू किया है। अन्य सुरक्षा एजेंसियों को भी हाईअलर्ट पर रखा गया है। भारतीय वायु सेना के पठानकोट एयरबेस पर आतंकवादियों ने 2 जनवरी 2016 को हमला किया था। इस हमले में सात लोग मारे गए थे।
पठानकोट के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक विवेक शील सोनी ने कहा, ‘वाहन में सवार लोगों ने बंदूक दिखाकर वाहन छीन लिया।’ पुलिस ने बताया कि पंजाब पुलिस ने जम्मू के सांबा में एक दल को भेजा है, जहां उन्होंने मंगलवार की रात भोजन किया था। उन्होंने कहा कि अपराधियों की पहचान करने के लिये सीसीटीवी कैमरे के फुटेज की भी जांच की जाएगी

सर्दियों में कोल्ड क्रीम लगाने के फायदे जाने विस्तार से

सर्दियों के मौसम भी दिखाई पड़ना शुरु हो गया है। जहां गर्मियों में आपकी त्‍वचा नम और चमकदार बनी रहती थी वहीं सर्दी में त्‍वचा पर झुर्रियां साफ दिखाई पड़ने लगी हैं। सर्दियों में हर महिला कोल्‍ड क्रीम का सहारा लेती है लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि कोल्‍ड क्रीम के कितने सारे फायदे हो सकते हैं। आइये जानते हैं-
कोल्‍ड क्रीम के फायदे-
a) नाइट फेस मास्‍क जब आप दिन में कोल्‍ड क्रीम लगाती हैं तो चेहरा बिल्‍कुल ऑयली हो जाता है जिस पर धूल-मिट्टी चिपक जाती है। पर यदि रात को कोल्‍ड क्रीम लगा कर सोया जाए तो इसका असर पूरी रात रहता है और दूसरे दिन चेहरा कोमल बना रहता है।
b) लिप बाम: इस समय होंठ फट जाते हैं तो आप उसे ठीक करने के लिये उस पर मोटी परत कोल्‍ड क्रीम की लगा सकती हैं।
c) कुहनियों और घुटनों को मुलायम बनाए: सर्दियों में कुहनियों की त्‍वचा फट जाती हैं, यदि इस पर आप ध्‍यान नहीं देगी तो आपकी त्‍वचा पर हमेशा के लिये झुर्रियां पड़ सकती हैं। अच्‍छा होगा कि आप इस पर कोल्‍ड क्रीम लगाएं।
d)मेकअप रिमूवर: आप चाहें तो कभी-कभार अपने मेकअप को साफ करने के लिये इस क्रीम का इस्‍तमाल कर सकती हैं, लेकिन हां कभी इसे अपनी आदत ना बनाइयेगा।
e) शेविंग क्रीम: पुरुषों को महिलाओं की क्रीम की ताकत का एहसास नहीं है मगर शेविंग करते समय वह इसे इस्‍तमाल कर सकते हैं।
f)फटी एड़ियों के लिये: यदि हल्‍की-फुन्‍की एडी़ फटी हो तो आप कोल्‍ड क्रीम का इस्‍तमाल कर सकती हैं। मगर ज्‍यादा फटी एडियों के लिये आपको क्रैक क्रीम का ही प्रयोग करना होगा।

गिरे कच्चे तेल के दाम, जानिए कितना सस्ता हुआ पेट्रोल-डीजल

दिल्‍ली में आज पेट्रोल के दाम 15 पैसे घटे हैं। इस कटौती के बाद आज दिल्‍ली में पेट्रोल की कीमत 77.28 रुपए प्रति लीटर पहुंच गई है। 

दूसरी ओर डीजल की कीमतों में यहां 10 पैसे की कटौती हुई है। जिसके बाद आज यहां डीजल की कीमत 72.09 रुपए प्रति लीटर दर्ज की गई हैं।
दूसरी ओर आर्थिक राजधानी मुंबई की बात करें तो यहां पर पेट्रोल की कीमतों में 14 पैसे की कटौती देखी गई है। यहां गुरुवार को 1 लीटर पेट्रोल भरवाने के लिए 82.80 रुपए खर्च करने होंगे। दूसरी ओर डीजल की कीमतों में यहां प्रति लीटर 11 पैसे की कटौती की गई है। इस कटौती के बाद गुरुवार को डीजल की कीमतें घट कर 75.53 रुपए प्रति लीटर हो गई हैं
कच्‍चे तेल की अंतरराष्‍ट्रीय कीमत एक साल के निचले स्‍तर पर पहुंच गई है। वहीं दूसरी ओर अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया भी बुधवार को 36 पैसे की मजबूती के साथ 72.31 पर बंद हुआ। घरेलू वायदा बाजार में बुधवार को कच्चे तेल का भाव 4,000 रुपए प्रति बैरल के मनोवज्ञानिक स्तर से नीचे फिसल गया, जोकि मार्च के बाद का सबसे निचला स्तर है। अंतरराष्‍ट्रीय बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड आज 7 प्रतिशत टूटकर एक साल के निचले स्‍तर 65 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।कच्‍चे तेल में नरमी आने और निर्यातकों एवं बैंकों द्वारा डॉलर की बिक्री करने, विदेशी निवेशकों द्वारा नई पूंजी देश के भीतर निवेश करने और विदेशों में अन्‍य मुद्राओं में कमजोरी आने से बुधवार को अंतरबैंक फॉरेक्‍स बाजार में रुपया डॉलर के मुकाबले एक समय 71.99 तक गया बाद में यह 72.31 के स्‍तर पर बंद हुआ।

टाटा संस कर सकती है जेट एयरवेज का अधिग्रहण

देश के बड़ी बिजनेस कंपनी टाटा आनेवाले दिनों में आसमान में यानी एविएशन इंडस्ट्री में भी राज करने की तैयारी में है। इसके तहत टाटा संस कर्ज के तले दबी जेट एयरवेज का अधिग्रहण करके सबसे बड़ी एविशन डील को अंजाम दे सकती है।

टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन शुक्रवार को बोर्ड मेंबर्स के सामने जेट एयरवेज के अधिग्रहण का योजना रख सकते हैं। अगर जेट में निवेश पर सहमति बन जाती है, तो एविएशन इंडस्ट्री में टाटा का यह अब तक का तीसरा इन्वेस्टमेंट होगा।
टाटा ग्रुप पहले से देश में दो विमानन कंपनियों का संचालन कर रही है। सिंगापुर एयरलाइंस के साथ फुल सर्विस कंपनी विस्तारा और एयरएशिया ग्रुप के साथ किफायती विमानन कंपनी एयरएशिया इंडिया।
टाटा संस की मंशा जेट में 50% से ज्यादा शेयर खरीदकर उस पर मालिकाना हक पाने की है। इसमें चेयरमैन नरेश गोयल के पास 51 प्रतिशत शेयर है। टाटा संस गोयल के पास शेयरों का 25% जबकि बाकी शेयरधारकों के पास की 26 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीदना चाहती है। इससे टाटा को जेट में कुल 51 प्रतिशत हिस्सेदारी के साथ मेजॉरिटी कंट्रोल हासिल हो जाएगा।
अभी जेट का मार्केट वैल्यू 2,928 करोड़ रुपये है और इस पर 86 अरब का कर्ज है। टाटा से डील के बाद वह वित्तीय संकट से बाहर आ सकेगी। आर्थिक संकट की वजह से वह अपने कर्मचारियों को सैलरी तक देने में सक्षम नहीं है।
इस डील के बाद देश की एविएशन इंडस्ट्री में टाटा का शेयर बढ़कर 24 प्रतिशत हो जाएगा। बता दें कि जेट एयरवेज के पास अपना कुल 124 जहाज हैं। घरेलू मार्केट में उसकी हिस्सेदारी कुल 16 प्रतिशत और अंतरराष्ट्रीय मार्केट में 14 प्रतिशत है। वहीं, विस्तारा और एयरएशिया इंडिया की डोमेस्टिक मार्केट में हिस्सेदारी 4-4 प्रतिशत है। इन दोनों कंपनियों के इंटरनैशनल फ्लाइट्स नहीं हैं।
कहा जा रहा है कि टाटा विस्तारा और जेट एयरवेज को जोड़ भी सकती है। विस्तारा में टाटा की 51 प्रतिशत और सिंगापुर एयरलाइंस की 49 प्रतिशत हिस्सेदारी है।
कंपनी को 1,261 करोड़ रुपए का घाटा हुआ। इसके उलट पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही कंपनी ने 71 करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया था। दूसरी तिमाही में जेट एयरवेज की प्रतिद्वंदी कंपनी इंडिगो को भी 652.13 करोड़ रुपए का घाटा हुआ है, जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में उसे 551.56 करोड़ रुपए का लाभ हुआ था।

25 हजार के इनामी शातिर बदमाश आफताब पुलिस की गोली से घायल

बदमाश ने पुलिस पर पिस्टल से दो फायर किए। पुलिस की जवाबी फायरिंग में बदमाश के पैर में गोली लगी। पुलिस ने उसे कांशीराम अस्पताल में भर्ती कराया है।

लूट व चोरी के कई मुकदमों में वांछित जाजमऊ निवासी आफताब को चकेरी पुलिस ने बुधवार रात सनिगवां से गिरफ्तार किया था। गुरुवार सुबह आफताब ने तबीयत खराब होने का बहाना बनाया। जिस पर चकेरी थाने के दारोगा जगदीश सैनी, मंसूर अहमद व सिपाही उसे जीप से अस्पताल लेकर जा रहे थे। जीटी रोड पर त्रिमूर्ति मंदिर चौराहे के पास पहुंचे थे कि आगे वाहन होने से जीप की रफ्तार कुछ धीमी हो गर्ई। आफताब ने मौका देख दारोगा जगदीश की पिस्टल निकाल ली और जीप से कूदकर भाग निकला। उसके इस दुस्साहस पर पुलिस कर्मियों ने उसे दौड़ाया तो उसने दो फायर कर दिए।
पुलिस के जवाबी फायर में उसके दाहिने पैर में गोली लगी और वह नीचे सड़क पर गिर पड़ा। गिरते ही पुलिस कर्मियों ने उसे दबोच लिया। इसके बाद उसे कांशीराम अस्पताल में भर्ती कराया। मौके पर फोरेंसिक टीम पहुंची और पिस्टल व दो खोखे कब्जे में लेने के साथ ही छानबीन की। इंस्पेक्टर चकेरी अजय सेठ ने बताया कि आफताब पर चकेरी, रेलबाजार व गोविंदनगर में लूट, चोरी व डकैती के कई मुकदमे दर्ज हैं।

अफरीदी के बयान पर बोले गृहमंत्री राजनाथ सिंह पाकिस्तान नहीं संभाल पा रहे तो कश्मीर क्या संभलेंगे

भारत के अभिन्न अंग कश्मीर पर बयान देकर पाकिस्तान की भारी किरकिरी कराने वाले पाक क्रिकेटर शाहिद अफरीदी के बयान के बाद गुरूवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने टिप्पणी की है। 

सिंह ने कहा- “बात तो ठीक कहा उन्होंने। वो पाकिस्तान नहीं संभाल पा रहे, कश्मीर क्या संभाल पाएंगे। कश्मीर भारत का हिस्सा था, है और आगे भी रहेगा।”
पाक क्रिकेटर अफरीदी का एक वीडियो सामने आया जिसमें उन्होंने अपने देश और वहां की नई सरकार के रुख के विपरीत बयान देते हुए कहा है कि उनका देश कश्मीर पर कब्जा करना नहीं चाहता क्योंकि वह अपने चार प्रांतों को ही संभाल नहीं पा रहा है।
सोशल मीडिया में आये एक वीडियो के अनुसार अफरीदी ने ब्रिटिश संसद में छात्रों को संबोधित करते हुए कहा, 'पाकिस्तान कश्मीर नहीं चाहता है, पाकिस्तान में चार प्रांतों को संभाल पाने का ही बूता नहीं है।' उन्होंने कहा कि कश्मीर को आजाद कर देना चाहिए। गौरतलब है कि अफरीदी ने अप्रैल में भी कश्मीर को लेकर टिप्पणी करते हुए कहा था कि वहां चिंताजनक स्थितियां हैं। संयुक्त राष्ट्र को कश्मीर के मामले में हस्तक्षेप करना चाहिए।
ये कोई पहली बार नहीं है जब पाक क्रिकेटर अफरीदी ने इस तरीके की बात कही हो। वो अक्सर इस तरीके के बयान देते हुए नजर आते हैं। लेकिन यहां पर गौर करने वाली बात ये है कि हर बार अफरीदी अपने बयानों में भारत की आलोचना करते हुए नजर आते थे लेकिन इस बार उनके इस बयान की वजह से नापाक मंसूबे रखने वाले पाक की जमकर किरकिरी हो रही है।
भारत के अभिन्न अंग कश्मीर पर बयान देकर पाकिस्तान की भारी किरकिरी कराने वाले पाक क्रिकेटर शाहिद अफरीदी के बयान के बाद गुरूवार को गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने टिप्पणी की है। जी हां, बता दें कि सिंह ने कहा- “बात तो ठीक कहा उन्होंने। वो पाकिस्तान नहीं संभाल पा रहे, कश्मीर क्या संभाल पाएंगे। कश्मीर भारत का हिस्सा था, है और आगे भी रहेगा।”
पूर्व पाकिस्तानी ऑलराउंडर इससे पहले भी कश्मीर पर बयान दे चुके हैं। अपने बयानों में अफरीदी अक्सर भारत की आलोचना करते हैं। लेकिन उनका जो वीडियो इस बार वायरल हो रहा है वह पाकिस्तान की किरकिरी कराने वाला है।

पाक के खिलाफ अपनी पहली पारी खेलकर रोने लगे थे सचिन

पहले टेस्ट मैच में सचिन को छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया. सचिन ने 24 गेंदों का सामना किया और दो चौकों की मदद से 15 रन बनाए. सचिन खुद स्वीकार कर चुके हैं,

सचिन तेंदुलकर ने ठीक 29 साल पहले आज ही के दिन (15 नवंबर, 1989) पाकिस्तान के खिलाफ अपने करियर का पहला इंटरनेशनल मैच खेला था. 16 साल 205 दिन के सचिन ने कराची के नेशनल स्टेडियम में टेस्ट पदार्पण किया. लेकिन अपनी पहली पारी के बाद वह रोने लगे थे.पहले टेस्ट मैच में सचिन को छठे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजा गया. सचिन ने 24 गेंदों का सामना किया और दो चौकों की मदद से 15 रन बनाए. सचिन खुद स्वीकार कर चुके हैं, 'जब मैं अपनी पहली पारी खेलकर ड्रेसिंग रूम में पहुंचा, तो मुझे लगा कि 'रॉन्ग प्लेस' पर मैं 'रॉन्ग टाइम' आ गया.'वह आगे कहते हैं, 'बहुत मुश्किल में था. बाथरूम में गया, रोने लगा. फिर वहां जो सीनियर प्लेयर्स थे उन्होंने मुझे समझाया और बताया कि आपको (मुझे) क्या करना चाहिए. फिर अगले मैच में मुझमें कॉन्फिडेंस लौटा.'
सचिन को नहीं पता था कि पाकिस्तान में कैसे खेलना है. सचिन फेसबुक लाइव के दौरान यादें ताजा करते हुए बता चुके हैं कि ईरानी ट्रॉफी के पहले मैच में शतक के बाद ही उनका भारतीय टीम में चयन हो गया था. इसके बाद वह पाकिस्तान दौर पर चले गए थे. वहां का तगड़ा बॉलिंग अटैक, वहां क्या होगा उन्हें कुछ नहीं पता था. वहां कुछ ओवर खेला तो पता चला कि अटैक इस तरह का होगा. उस वक्त इमरान खान, वसीम अकरम, वकार यूनुस जैसे तगड़े गेंदबाज थे. उनकी बॉल को फेस करना कठिन काम था.
सचिन कहते हैं- पहली पारी में मुश्किल से 15 रन बनाए. इसके बाद मैंने अपने करियर की दूसरी पारी में फिफ्टी लगाई. उस दौरान मुझे पता चला कि मैं ये कर सकता हूं.जब मैं दूसरी पारी (फैसलाबाद टेस्ट) खेलने गया, तो मैंने सोच रखा था कि मुझे स्कोर बोर्ड नहीं देखना है, मैं सिर्फ घड़ी देख रहा था. मैं सिर्फ वहां मैदान पर वक्त बिताना चाहता था. किसी भी कीमत पर मुझे वहां खड़ा रहना था.

दिल्ली में तीन बच्चों की भूख से मौत, हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया

दिल्ली में तीन बच्चों की भूख की वजह से मौत के मामले में दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया है.

वकील मनीष पाठक ने इस मामले में याचिका दाखिल की थी. दिल्‍ली हाईकोर्ट से मांग की कि झुग्‍गी बस्तियों में रहने वाले बच्चों को मुफ्त में राशन की होम डिलीवरी की जाए. ताकि बच्‍चों को भूख से न मरना पड़े. याचिका में कहा गया है कि अगर इनको वोट देने का अधिकार है तो राशन का क्यों नही. याचिका में उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्‍यों में हाल ही में भूख से हुई बच्चों की मौत के बारे में भी बताया गया है

पत्नी नाराज होकर मायके चली गई, पति ने किया सुसाइड

अयोध्या नगर में मंगलवार सुबह एक युवक ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। सुसाइड नोट में उसने अपनी पत्नी को लिखा है कि मैं जा रहा हूं, आई लव यू.। अब मेरे घरवालों को परेशान मत करना।
अयोध्या नगर थाने के एएसआई आरडी रघुवंशी के अनुसार राजीव नगर स्थित आकाश एवेन्यू में रहने वाला 30 वर्षीय ऋषभ वर्मा निजी कंपनी में काम करता था। मंगलवार सुबह आठ बजे घरवालों ने उसे फांसी पर लटके देखा। उसके ताऊ ने फोन कर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने पंचनामा बनाया और हमीदिया अस्पताल में पीएम के बाद शव को परजिन को सौंप दिया।
जांच अधिकारी रघुवंशी का कहना है कि ऋषभ एक मिशनरी स्कूल का पढ़ा हुआ है। उसकी पत्नी पहले उसके साथ ही स्कूल में पढ़ती थी। फिर दोनों बेंगलुरु में इंजीनियरिंग करने चले गए। जहां दोनों ने प्रेम विवाह कर लिया था। दोनों वहां एक आईटी कंपनी में काम करते थे। एक साल पहले ऋषभ अपनी पत्नी और दो साल की बेटी को लेकर भोपाल आ गया था। उसकी पत्नी एमपीनगर में एक प्राइवेट कंपनी में काम करती है। लेकिन किसी कारण से वह कुछ माह से अपने मायके में रह रही है। ऋषभ कई दिनों से उसे मना रहा था, लेकिन वह आने को राजी नहीं थी।
जिस कमरे में ऋषभ ने फांसी लगाई है वहां ए फोर साइज के पेपर पर सुसाइड नोट मिला है। इसमें ऋषभ ने अपनी पत्नी को लिखा है कि उसका दिमाग खराब हो गया है। आई लव यू। मेरे घरवालों को परेशान मत करना। मैं जा रहा हूं। उसने आगे लिखा है कि तुम्हें समझाने की काफी कोशिश की। माता-पिता से माफी मांगते हुए लिखा है कि मैं जा रहा हूं। सुसाइड नोट में कई स्थान पर पत्नी को आईलव यू लिखा है।

चक्रवातीय तूफान गाजा तमिलनाडु तक पहुंचा, भारतीय नौसेना हाई अलर्ट पर

चक्रवातीय तूफान गाजा तमिलनाडु के तटों तक पहुंच गया है। तूफान के आज दोपहर तक पंबन और कुड्डालोर के बीच पहुंचने की संभावना है। 


भारतीय नौसेना को दक्षिण तमिलनाडु और पुडुचेरी के तटों की ओर बढ़ रहे गाजा चक्रवाती तूफान को देखते हुये हाई अलर्ट कर दिया गया। गाजा अभी चेन्नई के उत्तरपूर्व से करीब 370 किमी दूर है। वहीं यह नागापटनम के पूर्व-उत्तरपूर्व से 370 किमी की दूरी पर है। साथ ही संभाना है कि 15 नवंबर की शाम चक्रवात 'गाजा' के कुड्डालोर जिले और रामनाथपुरम जिले के पंबन के बीच 80-90 किमी की रफ्तार के साथ भूस्खलन हो सकता है।
पूर्वी नौसेना कमान ने आवश्यक मानवीय सहायता मुहैया कराने के लिए उच्च स्तरीय तैयारी की है। तूफान बृहस्पतिवार शाम में दोनों राज्यों के तटीय क्षेत्रों को पार कर सकता है।
नौसेना के एक अधिकारी ने बताया, ‘दो भारतीय नौसैनिक जहाज रणवीर और खंजर मानवीय सहायता और संकट राहत के लिए सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में आगे बढ़ने के लिए खड़े हैं।

बर्खास्तगी की अपील के बाद मीरा रिकार्डेल को व्हाइट हाउस से बाहर का रास्ता दिखा दिया

उप राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मीरा रिकार्डेल अब व्हाइट हाउस में काम करने का सम्मान पाने योग्य नहीं है.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की वरिष्ठ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मीरा रिकार्डेल को बुधवार को व्हाइट हाउस से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. इससे एक दिन पहले अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रम्प ने मीरा की बर्खास्तगी की अपील की थी.
मंगलवार को मेलानिया ट्रंप की प्रवक्ता स्टेफनी ग्रीशम ने एक बयान में कहा, 'प्रथम महिला के कार्यालय का यह मानना है.
अमेरिकी राष्ट्रपति की प्रवक्ता सारा सैंडर्स ने एक बयान में कहा, 'मीरा रिकार्डेल राष्ट्रपति के साथ काम करती रहेंगी क्योंकि वह प्रशासन के भीतर एक नई भूमिका निभाने के लिए व्हाइट हाउस छोड़ रही हैं.'
सैंडर्स ने कहा, 'राष्ट्रपति अमेरिकी आवाम के लिए रिकार्डेल की निरंतर सेवा और उनके राष्ट्रीय सुरक्षा को प्राथमिकता बनाए रखने के लिए आभारी हैं.'
ऐसा माना जा रहा है कि मीरा का पिछले महीने अफ्रीका दौरे के दौरान प्रथम महिला के साथ कुछ विवाद हो गया था. मध्यावधि चुनाव के बाद राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा किया यह पहला बदलाव है. राष्ट्रपति जल्द ही अपने प्रशासन में कुछ बड़े बदलाव करने पर भी काम कर रहे हैं.

2019 के आम चुनाव में फिर बन सकती है मोदी सरकार

2019 के आम चुनाव में फिर बन सकती है |मोदी सरकार सीएलएसए के क्रिस वुड्स ने ये बातें कही है कि अगले साल भारत की ओवरवेट रेंटिग बढ़ाई जा सकती है|


क्रिस वुड अपने साप्ताहिक न्यूजलेटर ‘ग्रीड एंड फियर’ के लिए भी जाने जाते हैं| सीएलएसए की 21वीं इंडिया इन्वेस्टर कॉन्फ्रेंस में उन्होंने मोदी सरकार को 10 में से आठ नंबर दिए|
मोदी ने किए कई बड़े सुधार- हॉन्गकॉन्ग की वित्तीय सेवा कंपनी सीएलएसए के एमडी एवं इक्विटी स्ट्रैटिजिस्ट क्रिस्टोफर वुड ने कहा कि नोटबंदी बेहद साहसिक कदम था, बेहद बहादुरी भरा| बैंकरप्ट्सी कोड भी बड़ी बात है| यह बहुत बड़ा सुधार है. उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत की भविष्यवाणी भी कर दी, हालांकि उन्होंने माना कि पार्टी को थोड़ा कम बहुमत हासिल होगा|
भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए चिंता- उन्होंने कहा कि आईएलएंडएफएस संकट बड़ी समस्या है| कुछ बैंकों की दिक्कतों ने साबित किया कि वह घरेलू शेयर बाजार के लिए दोगुनी समस्या से कम नहीं है| इसके अलावा भारतीय अर्थव्यवस्था डॉलर का मज़बूता होना है| हालांकि, कच्चे तेल के गिरने से रुपये में मज़बूती लौटी है|

अपडेट करने के दौरान ब्लास्ट हुआ iPhone X

अमेरिका में iPhone X यूजर के मुताबिक फोन उस समय ब्लास्ट हुआ जब वह उसमें iOS 12.1 अपडेट कर रहा था| यूजर ने बताया iOS 12.1 अपडेट करते ही फोन से धुंआ निकलने लगा और कुछ ही सेकंड में ब्लास्ट हो गया. 

यूजर के अनुसार यह हादसा तब हुआ जब वह अपने आईफोन को कंपनी के अडैप्टर और लाइटिंग केबल से ही चार्ज कर रहा था|
यूजर ने ट्विटर पर ब्लास्ट हुए आईफोन की कुछ तस्वीरें शेयर कर इस बात की जानकारी दी| इसके अनुसार रहेल मोहम्मद नाम का यह यूजर वाशिंगटन के फेडरल वे का रहने वाला है. रहेल ने इस फोन को 10 महीने पहले खरीदा था|
रहेल के अनुसार कंपनी ने उनके iPhone X को आगे की जानकारी के लिए अपने पास मंगवाया है| उनके ट्वीट का रिप्लाई देते हुए एप्पल सपोर्ट ने लिखा कि यह यह निश्चित रूप से अपेक्षित व्यवहार नहीं है और जल्द ही इसे हल किया जाएगा|
आईफोन के ब्लास्ट होने का यह पहला मामला नहीं है इससे पहले भी फोन के फटने की खबर आ चुकी है| एप्पल ने iPhone X अपनी दसवीं सालगिरह पर लॉन्च किया था जिसकी कीमत 88,966 रुपये है|

राफेल पर आर या पार का फैसला सुरक्षित रख लिया सुप्रीम कोर्ट में ऐसा क्या हुआ

सुप्रीम कोर्ट ने राफेल विमान सौदे की न्यायालय की निगरानी में जांच के लिए दायर याचिकाओं पर बुधवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया. 

साथ ही न्यायालय ने कहा कि राफेल विमानों के दाम पर चर्चा तभी हो सकती है जब वह फैसला कर लेगा कि कीमतों के तथ्यों को या नहीं.
इससे पहले सरकार ने राफेल लड़ाकू विमानों के दाम के संबंध में जानकारी सार्वजनिक करने से इनकार किया और कहा कि यह जानकारी सार्वजनिक होने का, हमारे विरोधी फायदा उठा सकते हैं.मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति के एम जोसफ की तीन सदस्यीय पीठ ने इन याचिकाओं पर विभिन्न पक्षों के वकीलों की दलीलें सुनी. पीठ ने कहा, 'हमें यह निर्णय लेना होगा कि क्या कीमतों के तथ्यों को सार्वजनिक किया जाना चाहिए या नहीं.' पीठ ने कहा कि तथ्यों को सार्वजनिक किये बगैर इसकी कीमतों पर किसी भी तरह की बहस का सवाल नहीं है.
विमानों की कीमत को सार्वजनिक नहीं किए जाने का बचाव करते हुए अटॉर्नी जनरल के के वेणुगोपाल ने कहा कि 2016 की विनिमय दर के अनुसार एक राफेल जेट की लागत 670 करोड़ रुपये थी और "पूरी तरह से सुसज्जित" विमान की कीमत का खुलासा होने से "विरोधियों को लाभ" हो सकता है.
याचिकाकर्ताओं की इस दलील पर कि संसद को दो बार मूल्य की जानकारी दी गई है, वेणुगोपाल ने कहा, "हम कहते रहे हैं कि संसद को भी जेट की पूरी लागत के बारे में नहीं बताया गया है."याचिकाकर्ता के वकील प्रशांत भूषण ने आरोप लगाया था कि इस सौदे के लिए फ्रांस ने कोई सरकारी गारंटी नहीं दी है.
इस आरोप पर अटार्नी जनरल ने स्वीकार किया कि कोई सरकारी गारंटी नहीं दी गई है, लेकिन कहा कि फ्रांस ने सहूलियत पत्र दिया है जो सरकारी गारंटी की तरह ही है. वेणुगोपाल ने कहा कि न्यायालय यह फैसला करने के लिए सक्षम नहीं है कि कौन सा विमान और कौन से हथियार खरीदे जाएं क्योंकि यह विशेषज्ञों का काम है.
चार घंटे लंबी सुनवाई के दौरान, पीठ ने वेणुगोपाल से कहा कि अदालत वायुसेना की आवश्यकताओं के बारे में जानने के लिए रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के बदले वायु सेना के अधिकारियों के साथ बातचीत करना चाहेगी.
पीठ ने कहा, "हम वायुसेना की आवश्यकताओं से निपट रहे हैं और वायुसेना अधिकारी से उनकी आवश्यकताओं के बारे में पूछना चाहते हैं. हम वायुसेना अधिकारी से सुनना चाहते हैं, न कि इस मुद्दे पर रक्षा मंत्रालय के अधिकारी से."
बाद में वायुसेना के शीर्ष अधिकारी एयर वाइस मार्शल जे चेलापति, एयर मार्शल अनिल खोसला और एयर मार्शल वी आर चौधरी बहुत कम समय के बुलावे पर अदालत पहुंचे. मुख्य न्यायाधीश ने वायुसेना की जरूरतों के बारे में चेलापति से बातचीत की.
भूषण, स्वयं और पूर्व केंद्रीय मंत्रियों यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी की ओर से न्यायालय में उपस्थित हुए. उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार गोपनीयता प्रावधान की आड़ में जानकारी छिपा रही है. 

SBI ग्राहक1 दिसंबर से इंटरनेट बैंकिंग के जरिए पैसों का लेन-देन नहीं कर पाएंगे

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में अकाउंट है तो ये खबर आपके लिए है. बैंक की वेबसाइट पर दी गई जानकारी में कहा गया है कि 1 दिसंबर के बाद कोई भी ग्राहक इंटरनेट बैंकिंग के जरिए पैसों का लेन-देन नहीं कर पाएंगे. 


ऑनलाइन बैंकिंग अकाउंट बंद हो जाएगा. बैंक ये कदम RBI की ओर से जारी नियमों के बाद उठा रहा है. एसबीआई ने अपनी आध‍िकारिक वेबसाइट onlinesbi.com पर इसकी जानकारी दी है. इसके मुताबिक अगर आप अभी एसबीआई इंटरनेट बैंक‍िंग का इस्तेमाल करते हैं. लेक‍िन आप ने अभी तक अपना मोबाइल नंबर बैंक के साथ रजिस्टर नहीं किया है, तो 1 दिसंबर तक करवा लें.
ऐसे करें अपडेट-एसबीआई ने कहा है कि आपको मोबाइल नंबर अपडेट करने के लिए ब्रांच में जाना होगा. यहां अपना मोबाइल नंबर जल्द से जल्द रजिस्टर करवा लें. ताकि आपको किसी भी सुविधा से वंच‍ित न रहना पड़े.
अपने बैंक खाते को मोबाइल नंबर अपडेट करना इसलिए भी जरूरी है ताकि आपको हर लेन-देन की जानकारी मिलती रह सके. इससे किसी भी संभावित धोखाधड़ी से बचने में भी मदद मिलती है. मोबाइल नंबर अपडेट करना न सिर्फ जरूरी है, बल्क‍ि यह आपके लिए फायदेमंद भी है.

इस बार छत्तीसगढ़ में न तो कांग्रेस न बीजेपी, जाने विस्तार से

साल 2000 में मध्य प्रदेश से अलग होने के बाद से ही छत्तीसगढ़ में चुनावी गणित बदलता रहा है|18 सालों में कांग्रेस और बीजेपी के पारंपरिक वोट कम हुए हैं|

छत्तीसगढ़ में 31 फीसदी एसटी, 11.6 फीसदी एससी, 45 फीसदी ओबीसी और करीब 10 फीसदी अगड़ी जाति के लोग हैं|आमतौर पर एसटी उत्तरी और दक्षिणी छत्तीसगढ़ में रहते हैं और एससी मूल रूप से महानदी के मैदानी इलाके में रहते हैं. ओबीसी लोग लगभग पूरे प्रदेश में फैले हुए हैं|
साल 2000 में जब छत्तीसगढ़ बना उस वक्त कांग्रेस के पास 90 में से 48 सीटें थीं| इनमें से 22 सीटें आदिवासी बहुल वाले सरगुजा और बस्तर इलाकों से थीं. इसका ये अर्थ है कि आदिवासी इलाकों की 26 सीटों में से 22 सीटें कांग्रेस के पास थीं| इनमें से सिर्फ एक सीट छोड़कर बाकी की सारी सीटें एसटी के लिए आरक्षित थीं. बिलासपुर, रायपुर और दुर्ग क्षेत्रों की कुल 64 सीटों में से बीजेपी के पास 32 और कांग्रेस के पास 29 सीटें थीं|
बीजेपी को सरगुजा-बस्तर क्षेत्र के आदिवासी बहुल इलाके वाले 26 सीटों में से 20 मिल गईं जबकि कांग्रेस ने बिलासपुर, रायपुर और दुर्ग क्षेत्र में बढ़त हासिल की. 2008 में भी लगभग यही हालत रही| पर 2013 के चुनाव में स्थितियां फिर से बदल गईं| सरगुजा-बस्तर क्षेत्र में कांग्रेस ने अपनी खोई हुई शक्ति को फिर से कुछ हद तक हासिल की| कांग्रेस को इस इलाके की 26 सीटों में से 15 सीटें मिलीं. लेकिन वह अपनी काफी मौजूदा सीटों को बचाने में नाकामयाब रही| अपनी मौजूदा 37 सीटों में 26 सीटें कांग्रेस हार गई| स्थानीय स्तर पर सत्ता विरोधी लहर के कारण बीजेपी को भी नुकसान हआ और पांच मंत्रियों समेत बीजेपी के कई विधायक चुनाव हार गए|
छत्तीसगढ़ में पिछले 18 सालों में हुए इस तरह के राजनीतिक परिवर्तन को समझने के लिए लोकसभा चुनावों के पैटर्न को भी समझना होगा. 2004, 2009 और 2014 के चुनाव में कुल 11 सीटों में से 10 सीटें कांग्रेस या बीजेपी के खाते में गई. इन चुनावों में लोगों ने या तो बीजेपी या कांग्रेस को वोट दिया. लेकिन विधानसभा चुनाव में स्थिति अलग थी. काफी सीटों पर कांग्रेस या बीजेपी से अलग किसी अन्य पार्टी के उम्मीदवार ने जीत दर्ज की थी|
2018 में स्थितियां और भी बदल गई हैं. लगभग हर सीट पर बीजेपी और कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती है. यहां तक कि जोगी-बीएसपी गठबंधन या अरविंद केजरीवाल की पार्टी के उम्मीदवार भी ऐसे हैं जिनकी स्थानीय स्तर पर काफी पकड़ है|
अब अगर ये माना जाए कि रमन सिंह सरकार के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर है तो कांग्रेस के पास सीएम के पद के लिए कोई विकल्प नहीं है| इसलिए सत्ता विरोधी फैक्टर भी स्थानीय स्तर पर ही काम करेगा. जिसकी वजह से यह बात काफी महत्तवपूर्ण हो जाती है कि ज़मीनी स्तर पर किसी उम्मीदवार की कितनी पकड़ है. उदाहरण के लिए बीजेपी ने बेलतारा से वहां के मौजूदा पार्टी के विधायक को टिकट देने के बजाय पार्टी के जिलाध्यक्ष रजनीश सिंह को टिकट दिया है| कांग्रेस ने भी एक ओबीसी उम्मीदवार को टिकट दिया है| जोगी-बीएसपी गठबंधन ने पंजाबी ब्राह्मण को टिकट दिया है जिसकी वजह से बीजेपी का पारंपरिक वोट कट सकता है| बीएसपी का समर्थन होने के कारण कांग्रेस का दलित वोट भी कट सकता है| अलकतारा में जोगी की पुत्रवधू बीएसपी के टिकट पर लड़ रही हैं और उन्हें जनता का काफी अच्छा समर्थन भी मिल रहा है. हालांकि यहां बीजेपी का उम्मीदवार भी काफी मज़बूत है. अब यहां जीत का परिणाम इस बात पर निर्भर करेगा कि कांग्रेस के मौजूदा विधायक किस तरह से प्रदर्शन करते हैं| अब अगर वह कांग्रेस के पारंपरिक वोटों को अपने पक्ष में रख पाने में कामयाब रह पाते हैं तो बीजेपी को फायदा हो सकता है लेकिन अगर वो ऐसा नहीं कर पाते तो अजीत जोगी की पुत्रवधू को फायदा हो सकता है| हालांकि इस त्रिकोणीय मुकाबले में कांग्रेस को फायदा पहुंच सकता है|

विधानसभा चुनाव की लड़ाई मैं ज्ञानदेव आहूजा का ज्ञान भी नहीं आया काम

राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने अपने 31 उम्मीदवारों की दूसरी सूची जारी कर दी. इस सूची में बीजेपी ने 15 विधायक और 3 मंत्रियों के टिकट काटकर नए चेहरों को मैदान में उतारा है |

बीजेपी ने जिन विधायकों और मंत्रियों के टिकट काटे हैं, उनमें अपने बयानों को लेकर विवादों में रहने वाले ज्ञानदेव आहूजा समेत धनसिंह रावत और राजकुमार रिणवा समेत अन्य शामिल हैं.
ज्ञानदेव का 'ज्ञान' नहीं आया काम, BJP ने काटा टिकट.
बीजेपी विधायक ज्ञानदेव आहूजा वही हैं, जिन्होंने जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) में रोज 3000 कंडोम मिलने का दावा किया था. साल 2016 में विवादित बयान देते हुए आहुजा ने कहा था कि जेएनयू में रोजाना 50 हजार हड्डी के टुकड़े, 3 हजार इस्तेमाल किए हुए कंडोम और 500 इस्तेमाल किए हुए अबॉर्शन इंजेक्शन मिलते हैं. उन्होंने जेएनयू में हर रोज 10 हजार सिगरेट के बट मिलने और छात्रों पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों में 'नेकेड डांस' करने का भी आरोप लगाया था.
बीजेपी को हिंदुओं की पार्टी बताने वाले मंत्री का भी टिकट कटा.
राजस्थान सरकार में ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज राज्यमंत्री धनसिंह रावत का हमेशा से ही विवादों से नाता रहा है. वे अपने बयानों को लेकर अक्सर सुर्खियों में रहे हैं. हाल ही में धनसिंह रावत ने बांसवाड़ा की सभा में कांग्रेस को मुसलमानों और भाजपा को हिन्दुओं की पार्टी बताया था. इस दौरान उन्होंने हिन्दुओं से सनातन धर्म की रक्षा के लिए भाजपा के समर्थन में प्रचंड मतदान करने की अपील की थी.
इससे पहले पिछले साल नवंबर में उन्होंने बांसवाड़ा में अधिकारियों को मुर्गा बनाने का विवादित बयान दिया था. इसके अलावा उन्होंने जिला परिषद की साधारण बैठक में विकास अधिकारियों के लिए कहा था कि ये अरबी घोड़े हैं, इनको चाबुक मारो.
हाल ही में एक वीडियो सामने आया था, जिसमें रावत का बेटा सड़क में एक कार चालक को पीटते दिखा था.
राजस्थान सरकार में खाद्य मंत्री बाबूलाल वर्मा से भी बीजेपी नाराज चल रही थी. हाल ही में उन्होंने कहा था कि अब मोदी लहर नहीं हैं. लिहाजा चुनाव जीतना आसान नहीं है. वर्मा पर कार्यकर्ताओं की उपेक्षा करने का भी आरोप है.
मंत्री रिणवा ने दिया था अजीबोगरीब बयान.
वसुंधरा राजे सरकार में मंत्री राजकुमार रिणवा ने हाल ही में पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि पर विवादित बयान दिया था. रिणवा ने कहा था कि बाढ़ आ रही है, उसमें पैसे नहीं लगते हैं क्या? उन्होंने यह भी कहा था कि पेट्रोल की कीमतों में तेजी तो सबको दिख रही है, लेकिन बाढ़ के खर्चे नहीं दिख रहे हैं.
इस दौरान रिणवा ने भारतीयों के चरित्र पर भी उंगली उठाई थी. उन्होंने कहा था, 'यहां नेशनल कैरेक्टर नाम की कोई चीज ही नहीं है. दूसरे देशों में प्राकृतिक आपदा आने या पेट्रोल की कीमतें बढ़ने पर खर्चे कम कर देते हैं, लेकिन हमारे यहां तो ऐसा कुछ भी नहीं है.
इन तीन मंत्रियों के कटे टिकट.
बता दें कि बीजेपी की दूसरी सूची से जिन मंत्रियों के नाम गायब हैं, उनमें मंत्री राजकुमार रिणवा, मंत्री बाबूलाल वर्मा और मंत्री धन सिंह रावत शामिल हैं. देवस्थान मंत्री राजकुमार रिणवा चुरू जिले की रतनगढ़ सीट से विधायक हैं, लेकिन इस बार उनका टिकट काटकर अभिनेष महर्षि को उतारा गया है |
गौरतलब है कि मंत्री बाबूलाल वर्मा बूंदी के केशवरायपाटन से विधायक हैं. इनकी जगह कोटा से रामगंज मंडी से विधायक चंद्रकांता मेघवाल को टिकट दिया गया है. इसके अलावा मंत्री धनसिंह रावत बांसवाड़ा से बीजेपी विधायक हैं. हालांकि इस बार इन तीनों को बीजेपी ने टिकट नहीं दिया है.
इन 15 विधायकों के कटे टिकट.
बीजेपी की दूसरी सूची में वर्तमान मंत्रियों के साथ जिन विधायकों के टिकट कटे हैं, उनमें सबसे चर्चित नाम अलवर जिले के रामगढ़ से विधायक ज्ञानदेव आहूजा का है.
आहूजा के अलावा किशनाराम नाई विधायक डूंगरगढ़, लक्ष्मीनारायण बैरवा विधायक चाकसू, आरसी सुनेरीवाल विधायक डग, जीतमल खांट विधायक गढ़ी, रानी कोली विधायक बसेड़ी, शैतान सिंह विधायक पोकरण, तरुण राय कागा विधायक चौहटन, छोटू सिंह भाटी विधायक जैसलमेर, कृष्ण कड़वा विधायक संगरिया, गीता वर्मा विधायक सिकराय, राजकुमारी जाटव विधायक हिण्डौन, मंगला राम विधायक कठूमर, रानी सिलोटिया विधायक बसेड़ी और शिमला बावरी विधायक अनूपगढ़ शामिल हैं.
खास बात यह है कि बीजेपी की दूसरी सूची में भी किसी मुस्लिम को टिकट नहीं दिया गया है. वहीं मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के करीबी और सरकार में नंबर दो यूनुस खान का नाम भी डिडवाना सीट से अभी तय नहीं हुआ.












उत्तर प्रदेश के 80 संसदीय क्षेत्रों में समर्थन जुटाने के लिए योगी आदित्यनाथ साइकिलों पर दौरा करेंगे

उत्तर प्रदेश के 80 संसदीय क्षेत्रों में समर्थन जुटाने की खातिर शनिवार से राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता साइकिलों पर सवार होकर समूचे सूबे का दौरा करेंगे| 


कमल संदेश बाइक रैली' में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को साइकिलों पर सवार होकर राज्य के हर बूथ तक पहुंचते देखा जा सकेगा| इन साइकिल रैलियों में राज्य के दोनों उपमुख्यमंत्रियों केशवप्रसाद मौर्य व दिनेश शर्मा के अतिरिक्त पार्टी के संगठन सचिव व राज्य के प्रभारी सुनील बंसल तथा पार्टी की प्रदेश इकाई प्रमुख महेंद्रनाथ पांडे भी शिरकत करेंगे|
मंत्री तथा विधायक भी रैली में भाग लेंगे. राज्य के पार्टी पदाधिकारियों, विधान परिषद के सदस्यों तथा राज्यसभा सदस्यों से भी रैली में शिरकत करने के लिए कहा गया है| प्रदेश महासचिव गोविंद नारायण शुक्ला ने बताया कि महेंद्रनाथ पांडे इस रैली में शिरकत करने के लिए चंदौली में रहेंगे, जबकि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बाइक रैली में वाराणसी में शामिल होंगे, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संसदीय निर्वाचन क्षेत्र है| सुनील बंसल कन्नौज, केशवप्रसाद मौर्य फूलपुर तथा दिनेश शर्मा लखनऊ में रैली में शामिल होंगे|

तारक मेहता का उल्टा चश्मा' के ट्यूशन टीचर भिड़े हुए बेरोजगार

तारक मेहता का उल्टा चश्मा की गोकुलधाम सोसाइटी के सेक्रेटरी और ट्यूशन टीचर भिड़े पर गाज गिरने वाली है| टेक्नोलॉजी की मार उनकी टीचिंग पर पड़ने वाली है 


इसकी वजह से बेरोजगार भी हो सकते हैं| दीवाली के बाद गोकुलधाम सोसाइटी में पहला दिन है| सुविचार बोर्ड पर लिखा है कि हरेक को खुद को बेहतर बनाने के लिए लगातार प्रयास करते रहना चाहिए और हर किसी को खुद को नए अविष्कारों व टेक्नोलॉजी से अपडेट रखना चाहिए|
तारक मेहता का उल्टा चश्मा में हर मैसेज का एक मतलब होता है, और यह मैसेज भी बेवजह नहीं है. भिड़े की ट्यूशन क्लास चल रही है, लेकिन उनका एक छात्र समीर हर समय अपने मोबाइल फोन पर ही लगा रहता है| इस वजह से उसके नंबर खराब होते जा रहे हैं| भिड़े के समझाने के बावजूद समीर उनकी बात नहीं मानता| अंत में तंग आकर भिड़े उसके ट्यूशन की फीस लौटने उसके माता पिता के पास जाते हैं तो वे पैसा लेने से मना कर देते हैं| भिड़े अब बहुत चिंतित है. उसे लगता है कि एक अध्यापक के रूप में वो असफल रहा है|
तारक मेहता का उल्टा चश्मा में टप्पू भिड़े को समझता है कि वह समीर को मोबाइल के सकारात्मक प्रयोग की तरफ क्यों नहीं प्रेरित करता| पढ़ने लिखने के लिए बहुत सारे ऐप आ गए हैं और समीर उसमें से किसी का भी इस्तेमाल करके अपने ग्रेड्स को ठीक कर सकता है| क्या करेगा भिड़े? क्या ऐप के आने से भिड़े की ट्यूशन क्लास पर असर पड़ेगा| वाकई अगर सभी छात्र ऐप के सहारे पढ़ाई करेंगे तो भिड़े का क्या होगा|लकिन फैन्स को भरपूर मजा आने वाला है|

THE7.IN_01