लोकसभा चुनाव 2019 मैनपुरी से किन उम्मीदवारो के बीच होगा बड़ा मुकाबला जानिए - Find Any Thing

RECENT

Sunday, April 14, 2019

लोकसभा चुनाव 2019 मैनपुरी से किन उम्मीदवारो के बीच होगा बड़ा मुकाबला जानिए

लोकसभा चुनाव 2019 मैनपुरी से किन उम्मीदवारो के बीच होगा बड़ा मुकाबला जानिए

lok sabha elections 2019 mainpuri will be among the candidates who will face bigger fight
उत्तर प्रदेश के कद्दावर नेताओं में शुमार मुलायम सिंह यादव एक बार फिर मैनपुरी से चुनाव लड़ रहे हैं| समाजवादी पार्टी का गढ़ माने जाने वाली मैनपुरी लोकसभा सीट पर मुलायम की प्रतिष्ठा दांव पर है तो भारतीय जनता पार्टी इस पूर्व मुख्यमंत्री को आसानी से चुनाव नहीं जीतने देना चाहेगी| 2019 लोकसभा चुनाव के लिए मैनपुरी से 12 उम्मीदवार मैदान में हैं| जहां मुख्य मुकाबला सपा से मुलायम सिंह यादव और बीजेपी के प्रेम सिंह शाक्य के बीच है| 8 क्षेत्रीय पार्टियों के नेता और 2 निर्दलीय उम्मीदवार भी अपनी चुनौती पेश कर रहे हैं. 2014 के चुनाव में 2 जगहों से जीत हासिल करने के बाद मुलायम सिंह ने मैनपुरी सीट छोड़ दी थी और उन्होंने आजमगढ़ को अपना संसदीय क्षेत्र चुना बाद में हुए उपचुनाव में उनके पोते तेजप्रताप सिंह यादव बड़े अंतर से जीत हासिल कर लोकसभा पहुंचे| हालांकि| मुलायम सिंह यादव इससे पहले भी कई बार यहां से सांसद रह चुके हैं|
मैनपुरी लोकसभा सीट देश में हुए पहले आम चुनाव के समय से ही चर्चा में रही है| 1952 से लेकर 1971 तक हुए देश में कुल 5 चुनाव में कांग्रेस ने जीत दर्ज की तो 1977 में सत्ता विरोधी लहर में जनता पार्टी ने जीत हासिल की|
लेकिन अगले ही साल 1978 में हुए उपचुनाव में कांग्रेस ने यह सीट वापस ले ली उसके बाद 1980 में कांग्रेस से सीट छिनी पर 1984 की लहर में फिर वापस आई| हालांकि 1984 में कांग्रेस को यहां पर आखिरी बार जीत नसीब हुई थी| जिसके बाद से ही ये सीट क्षेत्रीय दलों के कब्जे में रही 1989 और 1991 में यहां लगातार जनता पार्टी ने जीत दर्ज की लेकिन 1992 में पार्टी गठन करने के बाद मुलायम सिंह यादव ने यहां से 1996 का चुनाव यहां से लड़ा और बड़े अंतर से जीता भी उसके बाद 1998, 1999 में भी ये सीट समाजवादी पार्टी के पास ही रही 2014 के चुनाव में चली मोदी लहर का इस सीट पर कोई असर देखने को नहीं मिला था और तत्कालीन समाजवादी पार्टी के प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने बड़े अंतर से जीत दर्ज की थी| उनके सीट छोड़ने के बाद हुए उपचुनाव में तेजप्रताप सिंह यादव ने भी भारी अंतर से चुनाव जीता तेजप्रताप सिंह यादव को यहां करीब 65 फीसदी वोट मिले जबकि उनके सामने खड़े बीजेपी के उम्मीदवार को सिर्फ 33 फीसदी वोट मिले थे| 2014 उपचुनाव में यहां करीब 62 फीसदी मतदान हुआ था|

No comments:

Post a Comment