पुलिस ने पकडे सेंधमारी गैंग 50 लाख के कपड़े कार और स्कूटी बरामद किये - Find Any Thing

RECENT

Tuesday, March 12, 2019

पुलिस ने पकडे सेंधमारी गैंग 50 लाख के कपड़े कार और स्कूटी बरामद किये

 पुलिस ने पकडे सेंधमारी गैंग 50 लाख के कपड़े कार और स्कूटी बरामद किये

Police seized Bardhdi gang clothes worth Rs 50 lakh and scooter recovered
        

दिल्ली पुलिस ने पकड़ा सेंधमारी गैंग यदि आप अपने घरों में या अपने ऑफिस में छोटे-मोटे काम कराने वाले बेलदार या प्लंबर को बुलाते हैं तो कृपया सावधान रहिए क्योंकि ऐसा ना हो कि वह आपके घरों का सामान ठीक करने के साथ-साथ घर की छानबीन भी कर ले और बाद में आपके घरों में सेंधमारी की बड़ी वारदात हो जाए. दिल्ली में एक ऐसा गैंग पुलिस के हत्थे चढ़ा है जो पहले काम के बहाने घरों में घुसता है और फिर सेंध मारकर वहां से हजारों-लाखों का माल चुरा लेता है|द्वारका जिले के ज्वॉइंट पुलिस टीम ने एक ऐसे ही इंटर स्टेट गैंग का पर्दाफाश किया है, जो इस तरह की वारदात को दिल्ली और दिल्ली से बाहर अंजाम देते थे और पुलिस टीम ने करीब 50 लाख के कपड़े 1 लाख 30 हजार नकद, लैपटॉप, टीवी, स्कूटी, बाइक और वारदात में इस्तेमाल किए जाने वाला हथियार बरामद किया है| 
7 लोगों को गिरफ्तार किया गया है|डीसीपी द्वारका एंटो अल्फोंस ने बताया कि गिरफ्तार किए गए बदमाशों में राजन उर्फ शेखर, रवि उर्फ सुमित, राजेश उर्फ संतोष अनवर और यशवीर उर्फ गुज्जर शामिल हैं|
इनके अलावा पुलिस टीम ने दो रिसीवर अफसर मलिक और आसिफ मलिक को भी गिरफ्तार किया है जो इनसे वारदात में चुराए गए सामान आदि सस्ते कीमत पर खरीदते थे|कपड़ों से भरे 19 बैगपुलिस टीम ने 50 लाख कीमत के कपड़ों से भरे 19 बैग बरामद किया है| मायापुरी और डाबड़ी थाना इलाके से चोरी हुई कार भी बरामद की गई है| साथ ही कीर्ति नगर थाना इलाके से चोरी की गई स्कूटी, बिंदापुर से चुराई गई मोटरसाइकिल और डाबरी की चुराई गई दूसरी बाइक भी पुलिस टीम ने बरामद किया है|पालम गांव थाना इलाके से चोरी की लैपटॉप, टीवी, उत्तम नगर से चोरी की बैटरी के अलावा 1 लाख 30 हजार नगद और हाउस ब्रेकिंग हथियार बरामद किया है|डेढ़ दर्जन मामलों का खुलासाइनमें से गैंग लीडर राजन मथुरा का रहने वाला है| जबकि संतोष बिहार के भागलपुर का रहने वाला है| और दूसरा साथी राजस्थान का है| गैंग का लीडर अपने ग्रुप के दो-तीन लोगों को बेलदार बनाकर इलाके में भेजता और घरों में काम करने के बहाने वे लोग टारगेट ढूंढ़ते और फिर बाद में सेंधमारी की वारदात को अंजाम देकर फरार हो जाते| इनकी गिरफ्तारी से डेढ़ दर्जन मामलों का खुलासा हुआ है|

No comments:

Post a Comment