दुनिया की सबसे खतरनाक असॉल्ट राइफल AK-203 अमेठी में बनेगी- जानिए खासियत - Find Any Thing

RECENT

Monday, March 04, 2019

दुनिया की सबसे खतरनाक असॉल्ट राइफल AK-203 अमेठी में बनेगी- जानिए खासियत

दुनिया की सबसे खतरनाक असॉल्ट राइफल AK-203 अमेठी में बनेगी- जानिए खासियत
World's Most Dangerous Assault Rifle AK-203 Will Be Made in Amethi

नई दिल्ली/ अमेठी (जेएनएन)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के अमेठी में इंडो-रूस की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री का उद्घाटन किया। बता दें कि इंडो-रूस राइफल प्राइवेट लिमिटेड भारत की आयुध फैक्टरी और रूस के प्रतिष्ठान का जॉइंट प्रोजेक्ट है। कोरवा आयुध फैक्टरी में प्रतिष्ठित कलाशनिकोव राइफलों की नवीनतम श्रेणियां बनाई जाएंगी। यह संयुक्त उद्यम देश में शस्त्र सेनाओं को मदद देगा और राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूती प्रदान करेगा।

सेना को एके-47 राइफल(AK-47 rifle) का आधुनिक वर्जन एके-203(AK–203) से लैश किया जाएगा। इसके लिए भारत ने रूस के साथ समझौता किया है। इस करार के अनुसार, रूस के सहयोग से भारत में सात लाख 50 हजार (750,000) असॉल्ट राइफलें बनेगी।

एके-203 असॉल्ट राइफलों के लिए ओएफबी और रूसी कंपनी कंसर्न क्लानिश्नकोव के बीच रक्षा सौदे पर करार हुआ है। भारत और रूस की कंपनियां मिलकर इसे बनाएंगी। भारतीय सेना की पुरानी इंसास राइफल को रिप्लेस किया जाएगा और इसकी जगह जवानों को एके-203 असॉल्ट राइफलें मिलेंगी।

बता दें कि रूस ने दस साल पहले भारतीय सेना के लिए AK-47 राइफल के नए वर्जन की पेशकश की थी। उस समय दोनों देशों के बीच AK–103 राइफल पर बात हुई थी लेकिन डील पक्की नहीं हो पायी थी। अब भारत सरकार और रूस के बीच 2018 का मॉडल AK–203 पर सहमति बनी है। बताया जाता है कि AK सीरीज की यह सबसे खतरनाक राइफल है।

यह एके फैमिली की सबसे अपडेट राइफलों में एक है। अपनी एक्युरैसी के लिए मशहूर एके-203, कंटवर्टेबल राइफल है। इसे सैमी ऑटोमेटिक और ऑटोमैटिक तरीके से इस्तेमाल किया जा सकता है। एके-47 सबसे बेसिक मॉडल है इसके बाद एके में 74, 56, 100 सीरीज, 200 सीरीज आ चुकी है।

यह भी 201, 202 की तरह राइफल है। रिपोर्ट्स के अनुसार नई असाल्ट राइफल की लंबाई करीब 3.25 फुट होगी। गोलियों से भरी राइफल का वजन लगभग 4 किलोग्राम होगा। साथ ही यह किसी भी ऑपरेशन में जवानों के लिए इजी टू हैंडल होगी। यह नाइट ऑपरेशन में भी काफी कारगर होगी।

इससे पहले अभी हाल में ही भारत ने अमेरिका से 72,400 असॉल्ट राइफलें खरीदने के लिए समझौता किया था। करीब 700 करोड़ रुपये में ये राइफलें खरीदी जाएंगी। अनुबंध के मुताबिक एक साल के भीतर अमेरिका की सिग सौयर कंपनी 7.62 एमएम की 72,400 राइफलें देगी। इन राइफलों के मिलने से भारतीय सेना की ताकत और बढ़ जाएगी।

अभी भारतीय सेना के पास 5.56 गुणा 45 एमएम इंसास राइफलें हैं। इन्हें आधुनिक और उन्नत तकनीक वाली 7.62 गुणा 51 एमएम राइफल से बदलना आवश्यक हो गया था। चीन से लगती 3,600 किलोमीटर की लंबी सीमा पर तैनात जवान इस राइफल का इस्तेमाल करेंगे।

No comments:

Post a Comment