21 जून 2020 अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 June 2020 International Yoga Day - Find Any Thing

RECENT

Sunday, June 21, 2020

21 जून 2020 अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 June 2020 International Yoga Day

21 जून 2020 अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (21 June 2020 International Yoga Day)
योग शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "यूज़" से हुआ है जिसका अर्थ "एकता या बांधना" है। योग द्वारा शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने का काम होता है। लगभग 5000 वर्ष पूर्व योग भारत से बौद्ध धर्म के साथ चीन, जापान, तिब्बत, दक्षिण पूर्व एशिया और श्रीलंका में पहुँचा ।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत- (Starting of International Yoga Day)
27 सितंबर 2014 को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Prime Minister Narendra Modi) ने संयुक्त राष्ट्र महासभा(U.N. Assembly) में योग की महत्वता को बताते हुए एक साथ योग करने की बात रखी थी। तत्पश्चात 11 दिसंबर 2014 को 193 संदस्यीय संयुक्त राष्ट्र महासभा ने संयुक्त राज्य अमेरिका(U.S.A.) सहित 177 से अधिक देशों के समर्थन के साथ 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस(International Yoga Day) के रूप में मनाए जाने की घोषणा की। ऐसा पहली बार हुआ कि किसी प्रस्ताव को इतना ज्यादा समर्थन मिला था । इसके बाद 21 जून 2015 को पहली बार योग दिवस पूरे विश्व में मनाया गया ।

21 जून को ही क्यों मनाया जाता है अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस -(Why 21 June is celebrated as International Yoga Day)
उत्तरी गोलार्ध में 21 जून सबसे लंबा दिन होता है, साथ ही भारतीय परंपरा के अनुसार ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाता है जिससे यह दिन बहुत लाभकारी होता है। 

भारत में योग का इतिहास - (Yoga History in Bharat)
शुरू से ही योग भारतीय संस्कृति का अहम हिस्सा रहा है । पौराणिक ग्रंथों के अनुसार विश्व के पहले महायोगी भगवान शिव(Lord Shiva) है जो सदैव पद्मासन में बैठकर समाधि में लीन रहते हैं । भगवत गीता में भी योग का वर्णन मिलता है। भागवत गीता में तीन प्रकार के योग का उल्लेख मिलता है - कर्म योग ,भक्ति योग और ज्ञान योग।
वर्तमान योग दर्शन के महर्षि पतंजलि (Maharishi Patanjali) संस्थापक है। महर्षि पतंजलि ने योग के आठ अंग बताया है - यम(Yama), नियम(Niyama), आसन (Asana), प्राणायाम(Pranayaam), प्रत्यहार (Pratyahaar), धारणा (Dhaarna), ध्यान(Dhyaan) एंव समाधि (Samadhi)
19वीं शताब्दी के अंत में स्वामी विवेकानंद ने भारतीय संस्कृति एवं योग का परिचय पश्चिमी देशों से कराया । वर्तमान में भारत में बाबा रामदेव, श्री श्री रविशंकर, सद्गुरु, बीके शिवानी आदि योग करके स्वस्थ एवं तनाव मुक्त जीवन किस प्रकार से जिया जाए यह ज्ञान संपूर्ण विश्व को बता रहे हैं।


1 comment:

Pages